Wednesday, 29 March 2017

IAS में सफल और असफल उम्मीदवारों की सोच में क्या फर्क होता है? जरुर पढ़ें

दोस्तों IAS हिन्दुस्तान ही नहीं दुनिया की सबसे कठिन परीक्षा है. ऐसा इसलिए कहा जाता है कि क्योंकि इस परीक्षा में सफल होनेवाले उम्मीदवारों का प्रतिशत बेहद कम है. चूंकि ये परीक्षा दुनिया की कठिनतम परीक्षाओं में नंबर वन है लिहाजा इसमें आने वाले सवाल भी उसी लेवल के होते हैं.


खासबात ये है कि प्रारंभिक परीक्षा से लेकर इंटरव्यू तक के सवाल देखने में जितने कठिन होते हैं उसके जवाब उतने ही आसान होते हैं. यकीन नहीं हो रहा हो तो IAS के इंटव्यू से जुड़े कुछ सवाल और उसके उत्तर नीचे आप देख सकते हैं.




आपके लिए सलाह ये है कि आप प्रश्नों को पढ़ते समय अपने मन में उसके उत्तर भी सोचते चलें और आखिर में नीचे दिए गए उत्तरों से अपने उत्तर मिलाएं. इससे आपको पता चल जाएगा कि आपकी सोच में और एक सफल IAS की सोच में क्या अंतर है?

1. IAS Question - आप किसी जिले के जिलाधिकारी हैं. आपके डिस्ट्रिक में दो ट्रेनें टकरा गईं. आपको खबर मिली. आप सबसे पहले क्या निर्णय करेंगे? (ये सवाल डिसिजन मेकिंग से जुड़ा है)
.
2.IAS Question - आपकी इकलौती बहन की शादी है. वह शादी के 1 दिन पहले मेरे साथ भाग जाती है. आप क्या करेंगे? (आपके मूड को जांचने के लिए सवाल, मतलब आप असहज हालात में कैसा बर्ताव करते हैं.)
.
3.IAS Question - आप जब 21 साल के हुए तो आपको अचानक एक दिन पता चला कि आपकी मां कॉलगर्ल रही है. आप का रियेक्शन क्या होगा? (आपके पेशेंस को जांचने के लिए प्रश्न)
.
4.IAS Question - आपने जो घड़ी पहनी है उसकी कीमत 250 रुपए मात्र है और मैंने जो घड़ी पहनी है उसकी कीमत 1 लाख है तो इससे क्या साबित होता है? जबकि दोनों घड़ी टाइम एक ही बताती है.

************

1. Candidate Answer - सवाल सुनकर आपका दिमाग घूम गया होगा. किसी का भी घूम जाएगा. लेकिन एक सफल और असफल उम्मीदवार में अंतर ये है कि वो इन सवालों का जवाब बहुत ही सधे हुए शब्दों में देता है. पहले सवाल का जवाब सफल कैंडिडेट ने ये दिया था "श्रीमान सबसे पहले मैं ये पता करुंगा कि ट्रेन पैसेंजर थी या फिर मालगाड़ी. देखिए इतना कहते ही सवाल यहीं पर खत्म हो गया. क्योंकि ट्रेन अगर पैसेंजर है तो बहुत ज्यादा नुकसान होेने की संभावना है। इसके लिए भारी बचाव कार्य करना पड़ेगा और फौरन बड़ा निर्णय लेना पड़ेगा. और अगर दोनों मालगाड़ी है तो जानमाल का नुकसान कम होगा.
.
2. Candidate Answer- दूसरे सवाल के जवाब में सफल उम्मीदवार ने कहा कि सर मुझसे ज्यादा खुश किस्मत कौन होगा कि मेरी बहन ने एक IAS को जीवन साथी चुना है और दूसरा वो मेरा होनेवाला सीनियर है।
.
3. Candidate Answer- तीसरे प्रश्न में आपका हाव-भाव बदल सकता है। लेकिन अगर आप समझदार हैं तो इसका सवाल भी बेहद सधे हुए शब्दों में दे सकते हैं। सफल उम्मीदवार इसका जवाब कुछ इस अंदाज में देगा। सर अगर मेरी मां ने कॉलगर्ल का काम मजबूरी में किया तो मैं उसके साथ हूं साथ ही ये जानकर मैं अच्छा महसूस करुंगा कि मेरे पिता मेरी मां के अकेले ग्राहक रहे हों.

4. Candidate Answer- आखिरी सवाल का जवाब जबाब आपको IAS बना सकता है. सफल उम्मीदवार ने जवाब दिया कि श्रीमान आपकी 1 लाख की घड़ी आपका समय बता रही है यानी आपका समय अच्छा चल रहा है, जबकि मेरी मात्र 250 रुपए की घडी मेरा वक्त बता रही है. मतलब मेरा समय खराब चल रहा है.


NOTE:- दोस्तों अगर आपको हमारी ये प्रस्तुति अच्छी लगी हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा फेसबुक पर शेयर करें. आप जिस भी ग्रुप से जुड़े हों उसमें जरुर शेयर करें. 

Thursday, 16 March 2017

Delhi की ध्येय कोचिंग का नोट्स यहां से Free में डाउनलोड करें

दोस्तों परीक्षा का दौर शुरु हो गया है। उम्मीद है कि आप IAS और PCS का फॉर्म भरने के बाद तैयारी में जुट गए होंगे। दोनों ही परीक्षा में अब ज्यादा वक्त नहीं बचा है। अब वक्त है सधी हुई रणनीति के साथ आगे बढ़ने का। हर बार की तरह इस बार भी हमारी टीम आपका मार्ग दर्शन करने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

हम आपके लिए ना सिर्फ इन परीक्षाओं में कामयाब होने की रणनीति प्रकाशित कर रहे हैं बल्कि इन परीक्षाओं के लिए प्रमाणिक नोट्स भी उपलब्ध करा रहे हैं। हमें यकीन है कि अगर आप इन नोट्स को अपनी अध्ययन सामाग्री का हिस्सा बनाएंगे तो आपको सफलता जरुर मिलेगी।

इस कड़ी में हम नीचे दिल्ली की ध्येय कोचिंग का Notes PDF Form में उपलब्ध करा रहे हैं। आप इसे फौरन डाउन लोड कर लें। ये नोट्स बहुुत काम का है। आप कम वक्त में इसे पढ़कर इकोनॉमिक्स से जुड़े कांसेप्ट क्लियर कर सकते हैं। हमारी आपको सलाह है कि दिल्ली की ध्येय कोचिंग के इन नोट्स पर आप पूरी तरह से डिपेंडेंट ना हों. लेकिन इसे पढ़कर आप अहम बातों को नोट कर सकते हैं। ये नोट्स IAS और PCS परीक्षा के लिए उपयोगी साबित हो सकती हैं।

दिल्ली की ध्येय कोचिंग का नोट्स डाउनलोड करने के लिए यहां पर CLICK करें। 

Thursday, 9 March 2017

IAS मे निशांत जैन ने हिन्दी माध्यम से कैसे टॉप किया? Tips By IAS Nishant Jain

दोस्तों IAS बनना चाहते हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखना आवश्यक है। ये वो बातें हैं जिसे सिर्फ वही आपको बता सकता है जो इस परीक्षा में सफल हो चुका है। मतलब साफ है अगर आपको अमेरिका जाना है तो आपको वहां जाने का सही रास्ता वही बता सकता है जो वहां तक कभी गया हो। जो कभी अमेरिका गया ही नहीं वो आपको सिर्फ वहां तक पहुंचाएगा जहां तक वो गया है। उसके बाद वो आपको राम भरोसे छोड़ देगा यानी आप खुद से वहां पहुंच गए तो आपकी किस्मत वर्ना वापस जहां थे वहां तो खुद पहुंच ही जाएंगें।

इसी तरह से कोचिंग सेंटर्स में पढ़ाने वाले टीचर्स भी आपको वहीं तक पहुंचाएंगे जहां तक वो खुद गए हैं। मतलब अगर वो इंटरव्यू तक पहुंचे हैं तो वो आपको इंटरव्यू तक ही पहुंचाएंगे। अगर मेंस तक की परीक्षा उन्होंने पास की है तो वो आपको मेंस तक पहुंचा देंगे। इसके बाद आपकी किस्मत है कि आप IAS का किला कैसे फतह करते हैं?
IAS के नए और पुराने परीक्षार्थियों  के लिए हिन्दी माध्यम से IAS Topper निशांत जैन ने एक किताब लिखी है। इस किताब में विस्तार से उन्होंने अपने अनुभव को साझा किया है। नीचे हम उन्हीं के किताब का कुछ अंश दे रहे हैं। साथ ही किताब का Link भी नीचे दिया गया है। आप चाहें तो इस किताब को मंगा कर पढ़ सकते हैं। हो सकता है कि इस किताब को पढ़ने के बाद किसी कोचिंग से मदद लेने की आपको जरुरत ही ना पढ़े। ये किताब उन छात्रों के लिए बहुत काम की हो सकती है जो दिल्ली आकर महंगी कोचिंग नहीं कर सकते हैं। नीचे हम निशांत जैन की किताब का छोटा-सा अंश दे रहे हैं उसे पढ़कर आप समझ सकते हैं कि ये किताब कितनी प्रैक्टिकल है?

How to become IAS in Hindi? How to face IAS Interview in Hindi? IAS ke Interview mei kaise sawal aate hain? IAS ke question kaise hote hain. IAS tips by topper Nishant Jain
=================================

क्या है इंटरव्यू (Interview) (व्यक्तित्व परीक्षण)?

UPSC की सिविल सेवा परीक्षा का इंटरव्यू दिल्ली स्थित UPSC के भवन में होता है। आपका इंटरव्यू इस हेतु गठित विभिन्न इंटरव्यू बोर्डों में से किसी एक द्वारा लिया जाता है। प्रत्येक इंटरव्यू बोर्ड के अध्यक्ष संघ लोक सेवा आयोग के सदस्य होते हैं। प्रत्येक इंटरव्यू बोर्ड में आम तौर पर एक अध्यक्ष और चार अन्य सदस्य होते हैं।
इंटरव्यू बोर्ड के समक्ष लोक सेवाओं में करियर के लिए अभ्यर्थियों की उपयुक्तता (suitability) की जाँच की महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी होती है। 
मेरी समझ में इंटरव्यू बोर्ड यह जानने कि 'आप कितना जानते हैं?' से ज़्यादा यह जानना चाहता है कि आपके व्यक्तित्व कैसा है और आप कैसे सोचते हैं? कैसे व्यवहार करते हैं और आप कितना सीखना चाहते हैं यानी आपको ट्रेनिंग दी जा सकती है या नहीं? इंटरव्यू बोर्ड आपकी बौद्धिक योग्यताओं के साथ-साथ आपके सामाजिक-व्यावहारिक गुणों की परख भी करना चाहता है। ऐसे कुछ गुणों या विशेषताओं में, मानसिक सतर्कता, स्पष्ट एवं तर्कपूर्ण अभिव्यक्ति, संतुलित दृष्टिकोण, नेतृत्व कौशल, नैतिक सत्यनिष्ठा, समालोचनात्मक विश्लेषण, सामान्य रूचि के विषयों और रोज़मर्रा की घटनाओं के प्रति उत्सुकता और जागरूकता जैसी विशेषताएँ शामिल हैं। 
इसके साथ ही उम्मीदवार की भाषा, शब्दों के चयन और धैर्य की भी परीक्षा की जाती है। मेरी समझ में, किसी भी श्रेष्ठ अभ्यर्थी में परिपक्वता, तार्किकता, विनम्रता, संचार कौशल, संचित ज्ञान का विस्तृत और व्यापक आधार, सकारात्मकता, प्रत्युत्पन्नमतित्व (presence of mind), व्यापक और संतुलित व्यावहारिक दृष्टिकोण जैसे गुणों का एक ठीक-ठाक विकसित स्तर होना चाहिए।

मुख्य परीक्षा के बाद इंटरव्यू की तैयारी

पहली बात तो यह कि मुख्य परीक्षा देने के तुरंत बाद यदि आपको सकारात्मक रिज़ल्ट कि थोड़ी भी उम्मीद है तो आप इंटरव्यू की तैयारी शुरू कर दें। यह भी ध्यान दें कि हड़बड़ाने की कोई ज़रूरत नहीं है। आपको मुख्य परीक्षा के बाद इंटरव्यू तक इंटरव्यू की तैयारी के लिए पर्याप्त समय मिलेगा। मुख्य परीक्षा देने से पहले तो इंटरव्यू की तैयारी की चिंता बिलकुल न करें।

आइए, संक्षेप में चर्चा करते हैं इंटरव्यू की समग्र तैयारी के बारे में-

  • सबसे पहले अपना विस्तृत आवेदन पत्र (DAF) देखें, जो आपने मुख्य परीक्षा के लिए भरा था। इंटरव्यू बोर्ड को आपके बारे में जो कुछ भी जानकारी होती है, उसका स्त्रोत आपका DAF ही होता है। अतः DAF के अनुरूप तैयारी का ख़ाका तैयार कर लें (जहाँ तक मुख्य परीक्षा के पूर्व DAF भरने का प्रश्न है, तो उसके बारे में चर्चा इसी किताब के अन्य अध्याय -'कैसे करें मुख्य परीक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन' में की गयी है।
  • DAF में आपके नाम, पता, गृह राज्य, शैक्षिक और तकनीकी योग्यता, अनुभव, रूचियों, वैकल्पिक विषय, सर्विस और कैडर की प्राथमिकताओं समेत अनेक जानकारियाँ होती हैं। जब आप मुख्य परीक्षा के बाद इंटरव्यू की तैयारी करें, तो DAF में उल्लिखित जानकारियों यानी अपने बायोडाटा के प्रत्येक बिन्दु पर ठीक से तैयारी कर लें। इस ख़ाली समय का लाभ उठाते हुए एक छोटी सी डायरी बना लें, और उसमें DAF में उल्लिखित आपकी जानकारियों से सम्बंधित सम्भावित सवाल और उनके जवाब सोचने की कोशिश करें। आपके बायोडाटा से पूछे जा सकने वाले सवालों की लम्बी रेंज हो सकती है और आप ऐसे दर्जनों सवालों के बारे में सोच सकते हैं। आपके नाम के अर्थ से लेकर गृह ज़िले और गृह राज्य की विशेषताओं और समस्याओं तक, एजूकेशनल क्वालिफ़िकेशन से जुड़े ज्ञान से लेकर वैकल्पिक विषय से जुड़े प्रासंगिक मुद्दों तक, पूछे जा सकने वाले सवालों की एक लम्बी रेंज हो सकती है।
  • DAF में लिखी गयी ख़ुद की रूचियों से पूछे जा सकने वाले सवालों को लेकर अभ्यर्थी काफ़ी सशंकित रहते हैं। पहली बात तो यह कि आवेदन पत्र में वे रूचियाँ (Hobbies and interests) ही भरें, जो आपके व्यक्तित्व से सचमुच जुड़ी हों या आप पहले उनसे जुड़े रहे हों। ऐसी बहुत सी अभिरुचियाँ हो सकती हैं, जैसे- कोई खेल खेलना, किताबें पढ़ना, संगीत सुनना, फ़िल्में देखना, योग-ध्यान करना, कविताएँ लिखना आदि। आपने जिन एक या दो रूचियों का ज़िक्र अपने DAF में किया है, उनसे जुड़े सवालों के लिए प्रोपर तैयारी कर लें। उसके बारे में कुछ पढ़ भी लें, बल्कि मैं तो कहूँगा कि इंटरव्यू की तैयारी के दौरान रोज़ एकाध घंटा उस हॉबी को जियें भी। तभी आप उस हॉबी की गहराई से ख़ुद को जोड़ पाएँगे और इंटरव्यू में सहज रहेंगे।
  • इंटरव्यू की तैयारी का एक और बड़ा पक्ष है, करेंट अफ़ेयर्स और उससे सम्बंधित मुद्दे। चूँकि इंटरव्यू बोर्ड आपके विचार और वैचारिकी जानना चाहता है, पर उसके लिए कोई ऐसा मुद्दा या विषय चाहिए, जिस पर दोनों पक्ष बात कर सकें। करेंट अफ़ेयर्स इस दृष्टि से काफ़ी महत्वपूर्ण हो जाते हैं। इस संदर्भ में इंटरव्यू से एक महीने पहले तक का घटनाक्रम और उससे जुड़े मुद्दे अति महत्वपूर्ण होते हैं। आपसे इन मुद्दों पर आपकी राय पूछी जा सकती है। अतः इस खंड की तैयारी के लिए मेरी सलाह है कि एक डायरी बनाकर उस दौरान के महत्वपूर्ण राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों के बहुत संक्षिप्त नोट्स तैयार कर लें। 
  • यूपीएससी परीक्षा के इंटरव्यू की तैयारी के दौरान आस- पास के माहौल के प्रति अवेयर रहना बेहद जरूरी है। इसके लिए आप रेडियो, टीवी, न्यूजपेपर, पत्रिकाएँ और इंटरनेट की मदद ले सकते हैं। सभी माध्यमों का प्रयोग करके उन्हें एकीकृत करने की कोशिश करें।
  • आपसे कुछ विवादास्पद मुद्दों पर भी आपकी राय पूछी सकती है। जैसे-शराबबंदी की नीति उचित है या नहीं? क्या समलैंगिकता अनैतिक है? क्या पिछले दिनों भारत में असहिष्णुता बढ़ी है? आदि। ऐसे मुद्दों के पक्ष-विपक्ष दोनों नोट कर लें और फिर एक निष्कर्ष सोचें। निष्कर्ष जो भी हो, मेरी समझ में प्रगतिशील, सकारात्मक हो और अतिवादी प्रतीत नहीं हो, तो बेहतर है।
  • कोशिश करें कि इंटरव्यू देने से पहले कुछ मॉक इंटरव्यू जरूर दे दें, क्योंकि इससे आपकी वे कमियां सामने आ जाती हैं, जो आपको खुद भी पता नहीं होतीं। बेहतर होगा कि आप अपनी जिंदगी का पहला इंटरव्यू यूपीएससी में ही फेस ना करें। यद्यपि ऐसे भी कुछ अभ्यर्थियों में इंटरव्यू में अच्छे अंक हासिल किए हैं जिन्होंने एक भी मॉक इंटरव्यू नहीं दिया।
  • मॉक इंटरव्यू देने का एक और बढ़िया तरीक़ा है कि आप तीन-चार दोस्त एक ग्रुप बनाएँ और दो-तीन साथी मिलकर चौथे साथी का इंटरव्यू लें। इस तरह इंटरव्यू की तैयारी बंद कमरे तक न रखकर ग्रुप डिस्कशन और मॉक इंटरव्यू का भरपूर अभ्यास करते हुए करें।
  • इस बात का भी ख्याल रखें कि अगर मॉक इंटरव्यू लेने वाले ने आपमें कोई बड़ी कमी बता देता है, तो उसे बहुत ज्यादा दिल पर लेकर अपना कॉन्फिडेंस लूज ना करें और उसमें सुधार करने की कोशिश करें। हो सकता है मॉक इंटरव्यू लेने वाले की दृष्टि में आपकी कमी बड़ी हो, पर UPSC इंटरव्यू बोर्ड उस कमी को महत्व न दे।

इंटरव्यू के ठीक पहले

इंटरव्यू के ठीक पहले कुछ छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखें-
  • फ़ॉर्मल ड्रेस तैयार है या नहीं। पुरुषों के लिए हल्के रंग की शर्ट और काली या डार्क कलर की पैंट, टाई और काले फ़ॉर्मल जूते पहनना अच्छा विकल्प है। इसी तरह महिला अभ्यर्थियों के लिए हल्के डिज़ाइन की साड़ी या सलवार-सूट बेहतर है। पुरुष हों या महिला अभ्यर्थी, ड्रेस में शालीनता और औपचारिकता दिखनी चाहिए।
  • पहले दिन सहज रहें। ज़्यादा पढ़ाई का तनाव न लें। यदि आख़िरी वक़्त पर कोई नयी सलाह दे, तो ज़्यादा प्रभावित न हों। कुछ लोग आपसे ठीक एक दिन पहले यह भी पूछेंगे कि क्या तुमने फ़लाँ टॉपिक तैयार कर लिया? यदि आपने वह टॉपिक तैयार नहीं भी किया तो तनाव न लें। ज़रूरी तो नहीं कि वही सवाल इंटरव्यू में पूछा जाए। नकारात्मक बातें करने वालों से इस दौरान दूरी बनाए रखें।
  • भरपूर नींद लें और सुबह तरोताज़ा उठें। स्वास्थ्य का ध्यान रखें और हल्का व सुपाच्य भोजन ज़रूर लें। ब्रेकफ़ास्ट को अनदेखा न करें।
  • अगले दिन इंटरव्यू हेतु UPSC द्वारा जो-जो प्रमाणपत्र माँगे गए हैं, उन्हें क़ायदे से सम्भाल कर रख लें। अन्यथा आख़िरी क्षण में या UPSC के भवन में हड़बड़ी और घबराहट हो सकती है।

इंटरव्यू बोर्ड के सामने

इंटरव्यू दो शिफ़्टों में होते हैं, सुबह और दोपहर बाद। जब आप संघ लोक सेवा आयोग के दिल्ली स्थित मुख्यालय में इंटरव्यू देने जाते हैं, तो सबसे पहले आपके मूल दस्तावेज़ों (जो माँगे गए हैं), उनकी जाँच होती है। अंतिम वक़्त के ऊहापोह से बचने के लिए दस्तावेज़ ठीक से व्यवस्थित करके ले जाएँ। बोर्ड के सम्मुख आपका इंटरव्यू शुरू होने से कुछ देर पहले आपको एक हॉल में आपकी टेबिल पर बैठाया जाता है, जहाँ कुछेक अभ्यर्थी और भी होते हैं। उनसे बहुत ज़्यादा डिस्कशन के चक्कर में न पड़ें, हाँ, सहज होने के लिए परिचय और मुस्कानों का आदान-प्रदान कर लें। ये क़तई न सोचें, कि यह अमुक अभ्यर्थी कितना क्वालिफ़ाइड है और मुझे तो इसकी अपेक्षा कुछ नहीं आता।

अब बारी आती है आपके इंटरव्यू की। 

  • कक्ष में प्रवेश करें और अनुमति लेकर सहज रूप से बैठ जाएँ। न तो ज़्यादा झुकें और न ही ज़्यादा अकड़ कर बैठें।
  • इंटरव्यू को फेस करते वक्त आपका माइंडसेट बहुत ज्यादा स्टीरियोटाइप या बहुत ज्यादा मैकेनिकल नहीं होना चाहिए। सहजता जरूर होनी चाहिए। यू आर वॉट यू आर। इसलिए आप जैसे हैं, वैसे जाएं और सहजता के साथ जाएं।
  • इस बात का खास ख्याल रखें कि इंटरव्यू बोर्ड के मेंबर्स को ब्लफ करने या बहकाने की बिल्कुल कोशिश ना करें। वे बहुत ही अनुभवी लोग होते हैं। उनको किसी बात की गलत जानकारी देकर आगामी सवालों में फँस सकते हैं।उनका इस मामले में एक्सपीरियंस काफी लंबा होता है। दिखावा न करें, सहज रहें।
  • ध्यान रहे कि सवालों का जवाब देते समय एक संतुलित अप्रोच अपनाएं।
  • एक बेहद महत्वपूर्ण बात यह है कि इंटरव्यू बोर्ड के जो भी सदस्य आपसे सवाल पूछ रहे हैं, उनके सवाल को ध्यानपूर्वक और धैर्य के साथ सुनें। यदि आप सवाल समझ नहीं पाए हैं तो आप विनम्रतापूर्वक दोहराने का आग्रह कर सकते हैं। कृपया सवाल पूरा होने से पहले उत्तर देना शुरू करने की भूल क़तई न करें।
  • विनम्रता का गुण इंटरव्यू के दौरान बहुत काम आता है। विनम्रता का गुण सचमुच अमूल्य है। पर अतिशय विनम्रता दीनता न बन जाए, इसका भी ध्यान रखें।
  • यदि किसी सवाल के बारे में कोई भी आइडिया या क्लू नहीं लग रहा है, तो विनम्रतापूर्वक स्वीकार लें कि आपको इस मुद्दे की जानकारी नहीं है। पर यदि अपनी थोड़ी-बहुत समझ है, तो बोर्ड की अनुमति लेकर उत्तर देने की कोशिश करें। कहने का अर्थ है कि एकदम से give up न करें।
  • इंटरव्यू के दौरान आप स्पष्ट आवाज़ में बोलें। न बहुत तेज़ और न बहुत धीमी। और हाँ, किसी उत्तर के जवाब में अति उत्साहित न हो जाएँ। नर्वस तो बिलकुल न हों। ऐसे अनेक अभ्यर्थी होते हैं, जिन्हें इंटरव्यू के दौरान लगता है कि उनका इंटरव्यू ठीक नहीं चल रहा है, पर बाद में परिणाम आने पर उन्हें अच्छे अंक प्राप्त हो जाते हैं। अतः हल्की सी मुस्कान बनाए रखें।  

(मेरी हाल ही में प्रकाशित पुस्तक 'मुझे बनना है UPSC टॉपर' से कुछ चुनिंदा अंश)
-शुभकामनाओं सहित- निशान्त

NOTE:-दोस्तों अगर आपको निशांत सर का ये प्रयास अच्छा लगा तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। अगर आप किसी ऐसे फेसबुक ग्रुप से जुड़े हैं तैयारी करने वाले छात्रों का समूह है तो उसमें इसे जरुर शेयर करें। 

IAS निशांत जैन की किताब आप यहां से मंगा सकते हैं। शानदार किताब है। आज के परिवेश में तैयारी के लिए हिन्दी माध्यम के छात्रों के लिए इससे अच्छी कोई किताब हो ही नहीं सकती। सुझाव है जरुर पढ़ें.


Thursday, 2 March 2017

Current affairs 2017 के इन सवालों को रट डालें, परीक्षा में जरुर आएंगे

Current affairs 2017 (साल 2016 की प्रमुख घटनाएं)

Q- 16 जनवरी 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्टार्ट अप इंडिया, स्टैंड अप इंडिया अभियान की शुरुआत की. इसका लक्ष्य क्या है?
A:- उद्यमियता को बढ़ावा देना

Q- 23 जनवरी 2016 को नेताजी सुभाष चंद्र बोस से संबंधित कितनी गुप्त फाइलों के सेट को सार्वजनिक किया गया?
A:- 100 गुप्त फाइलों के पहले सेट को

Q:-5 मार्च को बॉलीवुड अभिनेता मनोज कुमार को फिल्म जगत का कौन-सा पुरस्कार दिया गया?
A:- दादासाहेब फाल्के पुरस्कार

Q:- 1 अप्रैल 2016 से देश के किस जिले में पूर्ण शराबबंदी लागू की गई?
A:- बिहार

Q- 22 जून को ISRO ने PSLV की एक ही उड़ान में कितने उपग्रहों को एक साथ कक्षा में स्थापित कर रिकार्ड बनाया?
A:- 20 उपग्रहों को


Q- 27 जून 2016 को भारत किस एलीट मिसाइल क्लब में शामिल हुआ?
A:-MTCR (मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रिजीम)

Q- 29 जून 2016 को कैबिनेट ने किस आयोग की सिफारिशों को मंजूरी दी?
A- 7वें वेतन आयोग

Q- 7 अगस्त 2016 को आनंदीबेन पटेल की जगह किसे गुजरात का मुख्यमंत्री बनाया गया?
A- विजय रूपानी

Q- 2 सितंबर 2016 को वेटिकन सिटी में हुए समारोह में पोप फ्रांसिस ने किसे संत घोषित किया?
A- मदर टेरेसा

Q- 5 सितंबर 2016 को रघुराम राजन की जगह भारतीय रिजर्व बैंक का गवर्नर किसे बनाया गया?
A- उर्जित पटेल

Q- 21 सितंबर 2016 को 92 साल पुरानी किस परंपरा को समाप्त करने की घोषणा की?
A- अलग से रेल बजट पेश करने की परंपरा

Q- नियंत्रण रेखा के पार पाकिस्तानी आतंकी लांच पैड्स पर भारतीय सेना ने किस दिन सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया?
A- 29 सितंबर 2016

Q- 20 अक्टूबर 2016 को टाटा सन्स बोर्ड के चेयरमैन पद से किसे हटाया गया?
A- साइरस मिस्त्री

Q- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किस दिन 500 और 1000 के पुराने नोटों के चलन को समाप्त करने की घोषणा की?
A- 8 नवंबर 2016

Q- 22 नवंबर 2016 को कनार्टक के किस प्रसिद्ध संगीतज्ञ और जाने-माने वैज्ञानिक का निधन हो गया?
A- संगीतज्ञ एम बाला मुरलीकृष्णा और वैज्ञानिक एमजीके मेनन

Q- तमिलनाडु की मुख्यमंत्री और AIADMK प्रमुख जे. जयललिता का निधन कब हुआ?
A- 5 December 2016

Q- 8 दिसंबर 2016 को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने किस मुस्लिम प्रथा को गैर संवैधानिक करार दिया?
A- तीन तलाक

Q- 9 दिसंबर 2016 को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में किस पूर्व वायु सेना अध्यक्ष को गिरफ्तार किया गया?
A-एपी त्यागी

Q- 26 दिसंबर 2016 को किस अंतर-महाद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया?
A- अग्नि-5

Q- रियो ओलंपिक में बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिन्धु को रजत और कुश्ती खिलाड़ी साक्षी मलिक को कांस्य पदक मिला. इस ओलंपिक में भारत किस स्थान पर रहा?
A- 67वें स्थान पर

Q- पैरालंपिक्स में भारत को कितने स्वर्ण, कितने रजत और कितने कांस्य पदक मिले?
A- 2 स्वर्ण, 1 रजत, 1 कांस्य पदक (ऊंची कूद में मरियप्पन थंगावेलु को स्वर्ण, देवेंद्र झाझरिया को भाला फेंक मे स्वर्ण, दीपा मलिक को गोला फेंक में रजत, ऊंची कूद में वरुण भाटी को कांस्य पदक)

Q- 11वीं विश्व बिलियर्ड्स चैंपियनशिप का खिताब जीतने वाले भारतीय?
A- पंकज आडवाणी

Q- भारत ने लगातर तीसरी बार किस खेल का विश्वकप जीता?
A-कबड्डी

Q- पीवी सिंधु ने कौन-सा पहला सुपर सीरीज प्रीमियर खिताब जीता?
A- चीनी ओपन

Q- मुक्केबाजी में बॉक्सर विजेंदर सिंह ने कौन-सा खिताब बरकरार रखा?
A- WUBO एशिया प्रशांत मिडलवेट

Q- किसे हराकर टीम इंडिया ने टेस्ट में नंबर वन का खिताब बरकरार रखा?
A- वेस्टइंडीज, न्यूजीलैंड और इंग्लैंड

Q- करूण नायर विश्व के ऐसे तीसरे क्रिकेटर बन गए हैं जिन्होंने अपने पहले टेस्ट शतक को तिहरे शतक में बदला, उन्होंने किस देश के खिलाफ नाबाद 303 रन बनाएं?
A- इंग्लैंड

Q- किसे ICI क्रिकेटर ऑफ द ईयर व टेस्ट क्रिकेटर ऑफ द ईयर घोषित किया गया?

A- स्पिनर आर. अश्विन

NOTE:- अगर आपको ये प्रयास पसंद आया हो तो कृपया इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें. 

Wednesday, 1 March 2017

इतिहास के इस Topic से जरुर आते हैं सवाल, जरुर तैयार कर लें

Ancient History Notes in Hindi. भारतीय इतिहास  (प्राचीन भारतीय इतिहास)


 भारत के प्राचीन इतिहास को समझने के लिए सबसे पहले हम इसे तीन कालखंडों में बांटते हैं.
1-प्रागैतिहासिक काल
2-आद्य ऐतिहासिक काल
3-पूर्ण ऐतिहासिक काल

Ø  प्रागैतिहासिक काल में उन संस्कृतियों का अध्ययन करते हैं जिसका संबंध पाषाण संस्कृतियों से है. (इस काल में मिलने वाली चीजें पत्थरों से बनी हैं).
Ø  आद्य ऐतिहासिक काल में हड़प्पा सभ्यता और ऋग्वैदिक सभ्यता आती हैं.
Ø  पूर्ण ऐतिहासिक काल की शुरुआत मौर्य काल से माना जाता है.


प्राचीन भारत के इतिहास को समझने के नजरिये से इस तरह से बांट सकते हैं-
1-प्रागैतिहासिक काल
2-सिन्धु घाटी की सभ्यता
3-वैदिक संस्कृति
4-संगम काल
5-प्राचीन भारतीय धर्म और दर्शन
6-मौर्य साम्राज्य
7- मौर्योत्तर काल (शुंग वंश, भारत पर विदेशी आक्रमण, पहलव वंश व कुषाण वंश)
8-गुप्तकाल
9-गुप्तोत्तर काल
10-राजपूत काल (भारतीय उप महाद्वीप पर अरबों का अक्रमण और भारत पर तुर्क आक्रमण)

पुरातत्व और प्रागैतिहासिक काल

मानव सभ्यता के नजरिये से प्रागैतिहासिक (Pre-History Age) को सबसे आरंभिक काल माना जाता है. इतिहास के इस कालखंड को अध्ययन के लिहाज से तीन भागों में बांटा गया है.
1-पुरा पाषाण काल (Palaeolithic Age)
2-मध्य पाषाण काल (Mesolithic Age)
3- नव पाषाण काल (Neolithic Age)

  • नवपाषाण काल के अंतिम चरण में इंसान ने धातुओं का प्रयोग शुरु किया. इंसान ने जिस धातु का सबसे पहले इस्तेमाल शुरु किया वो तांबा था.
  • जिस काल में इंसान ने पत्थर के साथ-साथ तांबे के औजारों का इस्तेमाल किया उसे ताम्र-प्रस्तर कहा जाता है. इसका मतलब है वो काल जिसमें पत्थर व तांबे के उपयोग की जानकारी मिलती है.
इस Topic से परीक्षा में आए हुए प्रश्न

  • कैलिग्राफी सुलेखन को कहते हैं. (Stenographer Gread-C-1999)
  • पुरालेख विद्या का मतलब शिलालेख के अध्ययन से लिया जाता है. (C.P.O Exam-2003)
  • प्रस्तर युग में कुत्ता एक घरेलू पशु था. (Stenographer Gread-C Exam-1998)
  • पुरा पाषाण काल को मानव अस्तित्व का प्रारंभिक काल माना जाता है. (MTS EXAM-2013)
Point wise Important Facts:-


  • पुरालेखशास्त्र को एपिग्राफी कहते हैं, इसके अंतर्गत शिलालेख का अध्ययन करते  हैं.
  • पुरालिपिशास्त्र को पेलियोग्राफी कहते हैं इसके अंतर्गत प्राचीन लिपि का अध्ययन किया जाता है.
  • सुलेखन की कला को कैलिग्राफी कहते हैं. मुहम्मद बिन तुगलक इतिहास में सुदंर हस्तलेख के लिए प्रसिद्ध है.
  • निम्म पुरापाषाण काल के प्रमुख स्थलों में कश्मीर, बेलन घाटी के अंतर्गत मीरजापुर (Uttar Pradesh), भीमबेटका (Madhya Pradesh).
  • मध्यपुरा पाषाण काल के मुख्य स्थल हैं- मीरजापुर (उत्तर प्रदेश), नेवासा (महाराष्ट्र), ओडिशा.
  • मध्यपुरा पाषाण काल को Flake Culture भी कहते हैं.
  • सबसे पुरानी चित्रकारी के प्रमाण उच्च पुरा पाषाण काल के दौरान भीमबेटका से मिलते हैं. गुफा शैल चित्रकारी के लिए भीमबेटका मशहूर है.
  • मध्य पाषाण काल में आदमगढ़ और बागोर से पशुपालन के सबसे पुराने प्रमाण मिले हैं.
  • विश्व और भारतीय उप-महाद्वीप में चावल का सबसे प्राचीनतम प्रमाण नव पाषाणकाल (6000 ईसा पूर्व) में कोल्डिहवा (उत्तर प्रदेश) से मिलता है. 
  • कृषि का सर्वप्रथम साक्ष्य मेहरमढ़ से मिलता है.
  • सराय नाहर राय से मध्य पाषाणिक काल में पशुपालन के साक्ष्य मिलते हैं.
NOTES:-दोस्तों अगर आपको हमारा ये प्रयास अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरुर करें. हर एक शेयर हमारा हौसला बढ़ाता है और हम इससे भी अच्छी अध्ययन सामग्री आप तक पहुंचाने के लिए प्रेरित होते हैं.

GK से जुड़े अपडेट पाने के लिए Page Like करें

Search

Total Pageviews