Thursday, 15 September 2016

PCS अफसर शिव सर से जानिए कैसे क्रैक करें PCS का चक्रव्यूह?





दोस्तों, UP PCS परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो PCS अफसर शिव कुमार सिंह का ये लेख जरुर पढ़ें. ये लेख आपके लिए बेहद काम का हो सकता है. खासतौस से उन छात्रों के लिए जो दिल्ली जाकर महंगी कोचिंग नहीं कर सकते हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि दिल्ली के मुखर्जीनगर में चलनेवाली सैकड़ों कोचिंग में भी ऐसी रणनीति बतानेवाला कोई नहीं है. इसकी वजह भी साफ है. जब कोचिंग सेंटरों में कोई सफल आदमी पढ़ा ही नहीं रहा है तो उसे कैसे पता कि सफलता कैसे मिलेगी? मेरा अनुभव तो यही कहता है कि कोचिंगों में जबतक आप पढ़ते हैं तबतक एक मायावी दुनिया में फंसे रहते हैं. मन में भ्रम रहता है कि जब कोचिंग खत्म होगी तो एक बार जमकर पढ़ लेगें और फिर अफसर बनकर नीली बत्ती में घुमेंगे. लेकिन हकीकत ये है कि नीली बत्ती पर घूमने के चक्कर में हर साल लाखों छात्रों की बत्ती गुल हो जाती है.



इसकी वजह यही है कि कोचिंग में पढ़ाई कम होती है और बकैती (इलाहाबाद के लोग इस शब्द से अच्छी तरह से परिचित होंगे) ज्यादा. पढ़ाने वाले टीचरों का बस यही काम है कि आपको ये बता दें कि 'बूस्ट इज़ सिक्रेट ऑफ माई एनर्जी'. लेकिन सत्य ये है कि उनको एनर्जी आपकी जेब ढीली होने पर ही मिलती है. सालभर में कोचिंग के कारिंदे आपके अंदर इतनी एनर्जी भर देते हैं कि अगले कुछ महीने आप मसूरी में ही रहते हैं. लेकिन जैसे ही ये एनर्जी खत्म होती है तो आप कटी पतंग की तरह इधर-उधर भटकते हैं.

लेकिन अब आपको भटकने की जरुरत नहीं. हम आपके लिए सफल लोगों की रणनीति लेकर आ रहे हैं. वो भी मुफ्त में. मुफ्त में है तो ऐसा नहीं कि आप इसकी कद्र ना करें और ज्यादा पैसा है तो फिर जाएं कोचिंग सेंटर में लुट कर आएं और फिर तसल्ली से पढ़ें.



आपकी मदद के लिए हम नीचे PCS में सेलेक्ट हो चुके शिव कुमार सिंह की रणनीति पोस्ट कर रहे हैं. शिव सर भी हमारी तरह आप लोगों को मुफ्त में ये ज्ञान दे रहे हैं. लेकिन आपका फर्ज बनता है कि उन्हें गुरु दक्षिणा के रूप में कुछ दें. दणिक्षा ये है कि उनकी ये रणनीति ज्यादा से ज्यादा शेयर करें, ताकि ज्यादा से ज्यादा से छात्रों का भला हो सके और एक कोचिंग मुक्त समाज की संकल्पना साकार हो.



छोटी-सी अपील-
अगर आपको PCS अफसर शिव कुमार सर का ये लेख पसंद आया हो तो ज्यादा से ज्यादा शेयर करें. ये शेयर उन लोगों का हौसला बढ़ाने के लिए काफी है जो कोचिंग के चक्रव्यूह को ध्वस्त करना चाहते हैं.
---------------------------

PCS अफसर शिव सर की रणनीति उन्हीं की कलम से जो उन्होंने फेसबुक के अपने पेज  पर पोस्ट किया...

पीसीएस मुख्य परीक्षा २०१६ की रणीनीति पे चर्चा

१-विगत वर्षों के हल प्रश्न पत्र आपने पास रख लो अब और उसे रोज २ से ३ घण्टे देखते रहो ताकि कल को कोई अनावश्यक दबाव पैदा न हो जाय
२- समसामायिक घटना चक्र रोज पढ़ो और सामाचार पत्र से नोट करो
३- वैकल्पिक पीसीएस में ट्रम्प कार्ड होता है इसे इस तरह से तैयार करो कि परीक्षा से पहले आपको पता चलने लगे कि बस यही प्रश्न आने वाला है. प्रश्न पेपर और हल पेपर दोनों पास रखो और पहले देख देख के लिखो धीरे धीरे सब तैयार जो जायेगा फिर खूब ब खुद, खुद से लिखने लग जावोगे

४-हिंदी के लिए कोई बुक्स मार्किट से उठा लो. विगत वर्ष के प्रश्न पत्र तैयार करना जरुरी है

५- निबंध लिखो बार-बार लिखो, गलत ही लिखो पर लिखो तो सही.

६- प्रतिदिन शाम को आप खुद से आपना हिसाब मांगो, सोचो क्या हासिल किया आज दिन भर में. 

------------------------------------
याद रखिये बच्चा पैदा होते है दौड़ने नहीं लगता है वह लड़खड़ाता है और धीरे धीरे चलना सीख जाता है. इसलिए पहले आप लिखो गलत लिखो सही लिखो, बस कुछ लिखते रहो एक दिन ऐसा आएगा जब तुम ऐसा लिखने लगोगे कि लोग कहेंगे ;;; यार क्या लिखता है बन्दा.



_____________________
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
कुछ पंक्तियां आपको समर्पित
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

लड़खड़ा के चलोगे तो चलना सीख जाओगे
गिर गिर के उठोगे तो सम्भलना सीख जाओगे
होंगे फ़रिश्ते सीधे आसमान में चमकने वाले
तुम ज़मीन से उठोगे तो दहकना सीख जाओगे
हर वक्त हार का एक चोट लेके जरूर आता है
कुछ समझे इससे तो ज़ख़म पे मरहम लगाना सीख जाओगे
ज़िन्दगी बेशक लंबी है कुछ लोगों की ज़ुबा से
तुम लड़ोगे हर ठोकर से, तो सब कुछ बदलना सीख जाओगे
अपनों के आसुओं की क़द्र तो होंगी आपको ज़रूर
कर्म का तूफ़ान पैदा करोगे तो कल को
खुद की आखों में समुन्दर बसाना सीख जाओगे
मेरा क्या है आज हु तो लिख रहा हु ये खुली दास्ताँ आपके लिए
अपना ज़मीर ज़िंदा रखोगे तो कल बुझे मसाल को जलाना सीख जाओगे

आपका प्रिय
शिव कुमार सिंह
असिस्टेंट कमिश्नर

शिव सर के करेंट अफेयर्स के नोट्स यहां से डाउनलोड करें... CLICK...

GK से जुड़े अपडेट पाने के लिए Page Like करें