Advertisement

Sunday, 21 January 2018

IAS बनना है तो GS, GK और Current Affairs का फर्क समझिए?

दोस्तों IAS EXAM के लिए हमने एक नई सीरिज शुरू की है। इस सीरिज में हम आपको IAS की तैयारी के लिए ऐसे-ऐसे Tips देंगे जो आपको और कही नहीं मिलेगा। क्योंकि इसमें बेसिक्स के साथ-साथ Advance लेवल तक की तैयारी की रणनीति बताई जाएगी। अगर आप चाहते हैं कि आपको ऐसी टिप्स लगातार मिलती रहे तो आपको दो काम करना होगा। पहला आप अपनी स्क्रीन के राइट साइट पर नीचे दिख रहे बेल आइकन को टच करके इसे अलॉउ कर दें और दूसरा नीचे हमारे फेसबुक पेज का लिंक दिया गया है उसे लाइक कर दें। इससे फायदा ये होगा कि जब भी नए लेख आएंगे आपको फौरन सूचना मिल जाएगी।
आज हम आपको बता रहें हैं कि IAS की प्रारंभिक परीक्षा के लिए आप कैसे शुरूआत करें? जिसके लिए जरूरी है की आपकी कुछ भ्रांतियों को दूर किया जाए। तो सबसे पहले पहली भ्राांति  को दूर कर लीजिए।
प्रारंभिक परीक्षा- कम समय में कैसे बनाएं रणनीति?
IAS की प्रारंभिक परीक्षा में दो प्रश्न पत्र होते हैं। पहला सामान्य अध्ययन का और दूसरा CSAT का। जहां तक सामान्य अध्ययन के प्रथम प्रश्न पत्र का सवाल है इसमें तीन टाइप के प्रश्न पूछे जाते हैं।
1-सामान्य अध्ययन यानी Gernal Studies (G.S)
2-सामान्य ज्ञान यानी Gernal Knowledge (G.K)
3-समसामयिक (Current Affairs)
नए छात्रों के सामने सबसे बड़ी कठिनाई ये होती है कि उन्हें पता ही नहीं होता है कि GS और GK में फर्क क्या होता है? दोनों में आपको अंतर समझाएं इससे पहले ये जान लीजिए की IAS की परीक्षा में G.K से ना के बराबर सवाल आते हैं। जबकि PCS, SSC, BANK, RAILWAY जैसी परीक्षाओं में G.K से जुड़े सवाल खूब आते हैं। अब आप सोच रहे होंगे कि दोनों में भला अंतर क्या है? जब तक आप ये अंतर नहीं समझेंगे IAS की तैयारी नहीं कर पाएंगे। इसलिए जरूरी है कि पहले आप इसमें फर्क करना सीखें।
G.S का सीधा सा मतलब है General Studies यानी हर उस विषय का सामन्य अध्ययन जिसकी जरूरत समाज में एक अधिकारी या कर्मचारी के तौर पर आपको पड़ सकती है। जहां तक General Studies में आनेवाले विषयों का सवाल है इसमें।
  • भारत का इतिहास और फ्रीडम स्ट्रगल मूवमेंट
  • भारतीय संविधान और राज्यव्यवस्था
  • भारत और विश्व का भूगोल
  • पर्यावरण, पारिस्थितिकी और जैव विविधता
  • अर्थव्यवस्था और सांख्यिकी
  • सामान्य विज्ञान और प्रद्योगिकी
  • सामाजिक विकास और प्रशासन 
जैसे टॉपिक आते है। जबकि General Knowledge यानी G.K में सामान्य ज्ञान से जुड़े। अब सवाल ये है कि सामन्य ज्ञान क्या होता है? सामान्य ज्ञान का मतलब ऐसे टॉपिक्स से है जिससे जुड़े सवालों के जवाब एक सामान्य या कह लें आम आदमी को भी आना चाहिए। कहने का आशय ये है कि सामान्य ज्ञान एक सामान्य आदमी से जुड़ा ज्ञान हैं। जैसे,
  • सड़क पर गाड़ी चलाने के नियम क्या हैं?
  • भारत का राष्ट्रीय खेल क्या है?
  • राष्ट्रीय पक्षी मोर है तो क्यों है?
  • तिरंगा में कितने रंग होते हैं और कौन-सा रंग किसका प्रतीक है?
  • भारत का संविधान कब बना?
  • भारत की राजधानी क्या है?
  • भारत में कुल कितने प्रदेश हैं? कितने केंद्र शासित प्रदेश हैं?
यानी ऐसे प्रश्न जिसके बारे में आपको बचपन में ही पढ़ाया गया होगा। जहां तक करेंट अफेयर्स का सवाल है इसमें रोज-रोज की घटनाओं से जुड़े ऐसे टॉपिक होते हैं जिसका असर सामाज, देश-दुनिया और देश की सियासत और प्रशासन पर पड़ता है।
IAS की तैयारी की अगली कड़ी जल्द....
उम्मीद है कि आपको हमारा ये लेख पसंद आया होगा। अगर सच में पसंद आया तो फेसबुक पर शेयर करें। नहीं आया तो दूसरा लेख पढ़ें।  

Wednesday, 10 January 2018

60 दिन में समीक्षा अधिकारी कैसे बनें? How to Crack RO/ARO Exam in 60 Days

8 अप्रैल 2018 को समीक्षा अधिकारी/सहायक समीक्षा अधिकारी RO/ARO 2018 की प्रारंभिक परीक्षा है। यानी अब आपके पास मोटे तौर पर  2 महीने यानी 60 दिन बचे हैं। सही मायने में समीक्षा अधिकारी जैसी परीक्षा के लिए 60 दिन बहुत हैं, बस अगर आप सही रणनीति से तैयारी करें तब। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि 60 दिन में आप कैसे समीक्षा अधिकारी बन सकते हैं? How to become Review Officer in only 60 Days.

समीक्षा अधिकारी परीक्षा की सबसे बड़ी खूबी ये है कि इस परीक्षा में इंटरव्यू नहीं होता है। यानी अगर प्रारंभिक परीक्षा पास करने के बाद आपने मुख्य परीक्षा पास कर ली तो आप गैजेटेड अधिकारी बन गए। लेकिन आज हम आपको मुख्य परीक्षा नहीं बल्कि प्रारंभिक परीक्षा को पास करने की Trick बता रहे हैं।
UP Review Office Pre Exam Syllabus 2017-18
समीक्षा अधिकारी की प्री परीक्षा 200 अंकों की होती है। इसमें ऑप्शनल सवाल आते हैं। मतलब आपसे एक सवाल पूछा जाएगा जिसके बदले में आपको चार विकल्प दिए जाएंगे। आपको इन चार विकल्पों में से किसी एक को चुनना होगा। अगर आपने उत्तर सही दिया तो आपको 1 अंक मिलेंगे और अगर गलत किया तो तीन प्रश्न गलत करने पर 3+1 यानी कुल 4 अंक कट जाएंगे। कहने का आशय निगेटिव मार्किंग है इसलिए तुक्के से काम नहीं चलेगा।

समीक्षा अधिकारी की प्रारंभिक परीक्षा दो शिफ्ट होगी। दोनों शिफ्ट में अलग-अलग दो पेपर होंगे।

1- पहला पेपर सामान्य अध्ययन का होगा। इसमें कुल 140 प्रश्न पूछे जाएंगे जिसका अंक भी 140 होगा। यानी एक सवाल सही करने पर आपको 1 अंक मिलेंगे।
2- दूसरा पेपर सामान्य हिन्दी का होगा। इस प्रश्न में सिर्फ 60 प्रश्न आएंगे और दूसरे पेपर का अंक भी 60 होगा।

तो अगर आप 60 दिन में  समीक्षा अधिकारी की परीक्षा पास करना चाहते हैं तो आप सबसे पहले उपर दिए सलेबस को ध्यान से देखिए। सलैबस देखने में भले ही छोटा है लेकिन जितना छोटा आप इसे समझ रहे हैं ये उतना छोटा नहीं है। इसे आप मिनी पीसीएस सलैबस कह सकते हैं। यानी ये परीक्षा PCS परीक्षा से जरा भी कम नहीं है। लेकिन डरने की बात इसलिए नहीं है क्योंकि इसके सावालों का स्तर पीसीएस के काफी नीचे होता है।

सलैबस देखने बाद आपको सलाह दी जाती है कि आप पिछले 10 सालों का अनसॉल्व पेपर ले आइए। इसके बाद आप सैलेबस का गंभीरता पूर्वक अध्ययन कीजिए। फिर आप पुराने अनसॉल्व को एक बार सरसरी तौर पर देख लीजिए। इसके बाद आपको खुद-ब-खुद समझ में आ जाएगा कि आपको क्या पढ़ना है और क्या छोड़ना है?

जहां तक किताब का सवाल है तो 60 दिन में आप बहुत ज्यादा फालतू पढ़ने से बचिए। 60 दिन के लिए सलाह ये है कि आप-

1-लूसेंट समान्य ज्ञान (इतिहास, भूगोल, विज्ञान, पॉलिटी, पर्यावरण, खेल-कूद)
2-10 साल का पुराना अनसॉल्व्ड
3-करेंट अफेयर्स के लिए कोई एक वार्षिकी
4-हिन्दी के लिए घटना चक्र प्रकाशन की समीक्षा अधिकारी के लिए किताब
5-जनसंख्या के लिए वाणी प्रकाशन की किताब
6-किसी भी प्रकाशन का प्रैक्टिस सेट

फिलहाल तो आप 60 दिन में इतना पढ़ने का टॉरगेट रखें। लूसेंट को तो घोट कर पी जाएं। यकीन मानिए आप समीक्षा अधिकारी की प्रारंभिक परीक्षा जरूर पास कर जाएंगे। इसके साथ ही खुद पर और अपनी पढ़ाई पर भरोसा रखें। दूसरों के बहकावों में मत आएं, अपनी अक्ल लगाएं। ज्यादा पढ़ेंगे तो सलेक्सन के चांजेंस कम हो जाएगा क्योंकि 60 दिनों में पढ़ने से ज्यादा दोहराने की प्रैक्टिस करें।

IAS के पैटर्न पर होगी PCS की परीक्षा, बदलाव से फायदा है या नुकसान-विश्लेषण

IAS के पैटर्न पर होगी UPPCS 2018 की परीक्षा। परीक्षा के पैटर्न में तीन बड़े  बदलाव किए जा सकते हैं। प्रारंभिक परीक्षा में कोई बड़े बदलाव के संकेत नहीं हैं, लेकिन निगेटव मार्किंग लागू होगी। मुख्य परीक्षा में आमूलचूल परिवर्तन होने की खबर है। मुख्य परीक्षा करीब-करीब IAS एक्जाम के पैटर्न पर ही होगी। यानी अब आपको IAS और PCS की परीक्षा के लिए अलग-अलग तैयारी करने की जरूरी नहीं पड़ेगी। उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग ने पहले ही UPPCS 2018 प्रारंभिक परीक्षा की तारीख 24 जून 2018 घोषित कर रखी है।

UP PCS परीक्षा में क्या-क्या हो सकते हैं अहम बदलाव?

(A) प्रारंभिक परीक्षा में बदलाव:-

(i) प्रारंभिक परीक्षा में सबसे बड़ा बदलाव ये होगा कि अब IAS की तरह पीसीएस में भी निगेटिव मार्किंग होगी। यानी एक सवाल गलत करने पर आपके 0.33 (1/3) नंबर काट लिए जाएंगे। इससे साफ है कि प्रारंभिक परीक्षा की मेरिट अब कम जाएगी। तुक्केबाज़ों के दिन अब लद जाएंगे। सिर्फ वही छात्र प्रारंभिक परीक्षा पास कर पाएगा जो सीरियस होकर पढ़ाई करेंगे। 
निगेटिव मार्किंग का एक फ़ायदा ये भी होगा कि नकलबाजों पर खुद ही लागाम लग जाएगी क्योंकि नकल के दौरान अभी तो लोग ये सोचकर दूसरे की बात मान लेते थे कि चलो सवाल गलत तो हो रही रहा है अगर नकल से एक दो सवाल ठीक हो गए तो सफल होने के चांसेज बढ़ जाएंगे। लेकिन अब अगर नकल करेंगे तो नुकसान हो सकता है। क्योंकि नकल करानेवाला छात्र जानबूझकर आपके सवाल गलत करवा सकता क्योंकि निगेटिव मार्किंग से आपके नंबर कम हो जाएंगे। 

(ii) निगेटिव मार्किंग के अलावा प्रारंभिक परीक्षा में कुछ भी बदलाव नहीं होंगे क्योंकि प्रारंभिक परीक्षा पहले से ही IAS की तर्ज पर हो रही है। प्रारंभिक परीक्षा में मेरिट का मुख्य आधार प्रथम प्रश्न पत्र यानी सामान्य अध्ययन ही होगा। CSAT  का दूसरा पेपर अभी भी क्वालीफाइंग ही रहेगा। यानी आपको सिर्फ इस पेपर में पासिंग नंबर ही प्राप्त करने होंगे। लेकिन यहां भी निगेटिंव मार्किंग होगी इसलिए बिना पढ़े जाएंगे तो मेरिट से बाहर होने के चांंसेज पहले 50 गुना बढ़ जाएंगे। तो होशियार रहें। और CSAT पर भी ध्यान देते रहें।

(B) मुख्य परीक्षा में बदलाव:-

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग PCS 2018 की मुख्य परीक्षा में बड़ा बदलाव करने जा रहा है। सही मायने में अब मुख्य परीक्षा IAS के पैटर्न पर ही होगी। आइए आपको बिन्दुवार समझाते हैं कि मुख्य परीक्षा में क्या-क्या बदलाव होंगे? और ये बदलाव आपके लिए फायदेमंद है या नुकसानदेह।

(i)- मुख्य परीक्षा में 2 की जगह 1 विषय होंगे:-
अभी तक PCS की मुख्य परीक्षा में दो वैकल्पिक विषय होते थे। इसको लेकर प्रतियोगी छात्रों की शिकायत ये थी कि स्केलिंग में इससे कुछ छात्रों को फ़ायदा होता है तो कुछ को नुकसान। कुछ विषय में अच्छे नंबर मिलते हैं तो कुछ में औसत। इसी वजह से विज्ञान और बीटेक के छात्र भी अपने विषय बदल लेते थे और अच्छे नंबर पाकर सलेक्शन पा जाते थे। लेकिन अब जब मुख्य विषय में एक ही विषय होगा तो स्केलिंग का बहुत ज्यादा फायदा या नुकसान किसी छात्र को नहीं होगा। हालाकि एक विषय में भी स्केलिंग पद्धति लागू रहेगी।

(ii)-सामान्य अध्ययन के 2 पेपर की जगह होंगे 4 पेपर:-
IAS की तरह ही PCS में भी अब सामान्य अध्ययन के चार पेपर होंगे। आयोग इसका सलेबस PCS Notification 2018 के साथ ही जारी करेगा। लेकिन माना जा रहा है कि सैलेबस भी IAS के पैटर्न पर ही होगा।  

(iii)- सामान्य अध्ययन के चारों पेपर होंगे डिस्क्रेप्टिव (सब्जेक्टिव):-
यानी अब आपको सवालों के उत्तर लिखने होंगे। जबकि अभी तक मुख्य  परीक्षा में भी सामन्य अध्ययन के दो पेपर ऑब्जेक्टिव होते थे। जिसमें आपको प्रारंभिक परीक्षा की तरह चार में एक सही उत्तर चुनना होता था।

सब्जेक्टिव होने का फ़ायदा सीरियस छात्रों को मिलेगा और नकल करके मेरिट में आऩेवाले छात्रों को नुकसान होगा। हालाकि इसके लिए आयोग को भी कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ेगा। उसे अच्छे विशेषज्ञों को चुनना होगा जो ना सिर्फ स्तरीय पेपर बनाए बल्कि तेजी से कॉपी भी चेक करें। क्योंकि आयोग पहले भी मुख्य परीक्षा में सामान्य अध्ययन का पेपर सब्जेक्टिव लेता रहा है लेकिन कॉपी चेक करने में लेटलटीफी के चलते ही उसे मुख्य परीक्षा में सामान्य अध्ययन का पेपर ऑब्जेक्टिव करना पड़ा था, ताकि कॉपी OMR शीट की वजह से जल्दी चेक हो जाए और लेट सेशन सही हो जाए।

(iv) इंटरव्यू 200 की जगह सिर्फ 100 नंबर का ही होगा:-

उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग पर ये आरोप लगता रहा है कि पीसीएस इंटरव्यू में पैसे चलते हैं। अखिलेश सरकार में ये आरोप एक जाति विशेष को लेकर लगने लगे थे कि इंटरव्यू में उन्हें जानबूझकर ज्यादा नंबर दिए गए ताकि अगर मुख्य परीक्षा में कम नंबर भी हो तो इंटरव्यू के नंबर के आधार पर सेलेक्शन हो जाए। इसी को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने इंटरव्यू को 200 की जगह अब 100 नंबरों का करने का फैसला किया है। इसका फायदा सीधे तौर उन छात्रों को मिलेगा जो टैलेंटेड हैं और मुख्य परीक्षा में अच्छे नंबर पाने के बावजूद इंटरव्यू में बेईमानी के शिकार हो जाते थे। 

(v) निबंध और सामान्य हिन्दी के प्रश्न-पत्र में कोई बदलाव नहीं:-
निबंध और सामान्य अध्ययन के पेपर में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा। वो पहले की तरह ही होंगे और मेरिट में इसके नंबर जुड़ेंगे।

तो अब आप समझ गए होंगे कि नया पैटर्न आपके लिए फायदेमंद या नुकसानदेह। निश्चिततौर नए छात्रों के लिए ये पैर्टन फायदेमंद है और पुराने छात्रों के लिए पैटर्न नुकसाानदेह क्योंकि उन्हें एक नए सिरे से मुख्य परीक्षा की तैयारी करनी होगी क्योंकि पुराने छात्रों में से ज्यादातर ऐसे हैं जिनकी IAS की उम्र निकल चुकी है।

Tuesday, 9 January 2018

प्रतियोगिता दर्पण जनवरी से दिसंबर 2017 तक की PDF में डाउनलोड करें

NOTE:-अगर आप सरकारी नौकरी से जुड़ी जानकारी से लागातर अपडेट होना चाहते हैं तो नीचे की ओर दिख रहे बेल आईकन को क्लिक कर इसे अलॉउ कर दें। इसके बाद आपको स्टडी मैटेरियल और तैयारी से जुड़े टिप्स अपने आप मिलते रहेंगे। जैसे ही कुछ नया होगा आपको अपने आप सूचना मिल जाएगी।

प्रतियोगी छात्रों के बीच प्रतियोगिता दर्पण मैग्जिन सबसे लोकप्रिय है। सालों नहीं बल्कि दशकों से ये मैग्जिन कंपटिशन की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए तैयारी का बड़ा माध्यम रही है। इस मैग्जिन की सबसे बड़ी खासियत ये है कि एक मैग्जिन में आपको तकरीबन सभी प्रतियोगी परीक्षा से जुड़े स्टडी मैटेरियल मिल जाते हैं।


प्रतियोगी परीक्षा में सफल कैंडिडेट्स का मानना है कि अगर आप पिछले एक साल की प्रतियोगिता दर्पण का गंभीरता पूर्वक अध्ययन  कर लें और अपने खुद के नोट्स बना लें तो प्रतियोगी परीक्षा में करेंट अफेयर्स से जुड़े 95 फीसदी सवाल हल कर सकते हैं। निश्चिततौर पर अगर ये मैग्जिन इतनी महत्वपूर्ण है तो आपके पास इसका सालभर का कलेक्शन होना चाहिए। हमारी सलाह तो ये है कि आप इस मैग्जिन को हर महीने जरूर खरीदें। अगर अकेले खरीदने की क्षमता नहीं तो फिर दो तीन छात्र मिलकर खरीदें और इससे अपना नोट्स बना लें।

लेकिन अगर आपको लग रहा है कि अाप लेट हो गए हैं और आपके पास पुराना कलेक्शन नहीं है तो आप नीचे दिए Link से पिछले साल भर की मैग्जीन (जनवरी 2017 से दिसंबर 2017) तक डाउनलोड कर सकते हैं। और इससे अपना नोट्स बनाकर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं। लेकिन एक बार हम फिर सलाह देंगे कि हो सके तो अगर आप इसकी हार्ड कॉपी ही खरीदें। क्योंकि हार्ड कॉपी से ना सिर्फ पढ़ने में सहुलियत होती है बल्कि प्रकाशक भी उसकी लागत मिल जाती है। वर्ना कोई समाज सेवा करने के लिए थोड़े ही मैग्जीन निकाल रहा है।
===============================
जनवरी 2017 की प्रतियोगिता दर्पण PDF फॉर्मेट में Download करने के लिए यहां पर CLICK करें।
---------------------
फरवरी 2017 की प्रतियोगिता दर्पण PDF फॉर्मेट में Download करने के लिए यहां पर CLICK करें।
----------------------
मार्च 2017 की प्रतियोगिता दर्पण PDF फॉर्मेट में Download करने के लिए यहां पर CLICK करें।
-----------------------
अप्रैल 2017 की प्रतियोगिता दर्पण PDF फॉर्मेट में Download करने के लिए यहां पर CLICK करें।
----------------------
मई 2017 की प्रतियोगिता दर्पण PDF फॉर्मेट में Download करने के लिए यहां पर CLICK करें।
------------------------
जून 2017 की प्रतियोगिता दर्पण PDF फॉर्मेट में Download करने के लिए यहां पर CLICK करें।
--------------------------
जुलाई 2017 की प्रतियोगिता दर्पण PDF फॉर्मेट में Download करने के लिए यहां पर CLICK करें।
--------------------------
अगस्त 2017 की प्रतियोगिता दर्पण PDF फॉर्मेट में Download करने के लिए यहां पर CLICK करें।
--------------------------
सितंबर 2017 की प्रतियोगिता दर्पण PDF फॉर्मेट में Download करने के लिए यहां पर CLICK करें।
 -------------------------
अक्टूबर 2017 की प्रतियोगिता दर्पण PDF फॉर्मेट में Download करने के लिए यहां पर CLICK करें।
--------------------------
नवंबर 2017 की प्रतियोगिता दर्पण PDF फॉर्मेट में Download करने के लिए यहां पर CLICK करें।
---------------------------
दिसंबर 2017 की प्रतियोगिता दर्पण PDF फॉर्मेट में Download करने के लिए यहां पर CLICK करें।
----------------------------

Disclaimer:-
प्रस्तुत प्रतियोगिता दर्पण मैग्जिन का PDF लिंक www.bookmynotes.com ने तैयार नहीं किया है। ये Link इंटरनेट पर जगह-जगह उपलब्ध है जिसे सिर्फ एक जगह एकत्रित कर छात्रों की मदद के लिए एक मंच पर पेश किया गया है। अगर किसी को इस पर आपत्ति है तो वो bookmnotes@gmail.com पर मेल कर आपत्ति दर्ज कर सकता है। सही आपत्ति होने पर साइट से इस Link को हटा दिया जाएगा।
धन्यवाद
www.bookmynotes.com

अगर आपको हमारा ये प्रयास पसंद आया हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा सोशल मीडिया पर शेयर कर अपने दोस्तों की मदद करें।

Monday, 8 January 2018

RO/ARO EXAM 2018 की आ गई वेकेंसी, 30 जनवरी से पहले करें Apply

इंताजर खत्म आ गई है समीक्षा आधिकारी और सहायक समीक्षा अधिकारी- 2018 (RO ARO Vacancy 2018) की बंपर वेकेंसी। 465 पदों के लिए 25 जनवरी 2018 से पहले करें अप्लाई। अगर आप ग्रेजुएट हैं तो आपके लिए इससे अच्छा मौका हो ही नहीं सकता। जैसा की आप जानते हैं कि UPPCS हर साल RO ARO पदों के लिए परीक्षा लेता है। लेकिन पिछले साल ये वेकेंसी नहीं आ पाई थी। इस वेकेंसी का छात्र काफी दिनों से इंतजार कर रहे थे। इस बार की परीक्षा की सबसे खास बात ये होगी कि प्रारंभिक परीक्षा में निगेटिव मार्किंग होगी। यानी की तुक्का मारने वालों और नकल करनेवालों के दिन अब लद गए। तो अगर आप सीरियर स्टूडेंट हैं तो आपके लिए इससे अच्छा मौका हो ही नहीं सकता।


क्यों PCS की कुछ पोस्ट से भी अच्छी है समीक्षा अधिकारी (RO) की नौकरी? जानने के लिए CLICK करें

नए साल के आगमन पर उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने छात्रों को बड़ा तोहफा देते हुए RO ARO परीक्षा का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। खास बात ये है कि इस बार वेकेंसी भी बंपर है। 465 पदों के लिए आयोग ने 30 दिसंबर को नोटिफिकेशन जारी किया है। आप अगर आवेदन करना चाहते हैं तो नीचे दिए लिंक पर क्लिक कर सकते हैं।

समीक्षा अधिकारी 2018 में कैसे मिलेगा सलेक्शन, जानने के लिए यहां क्लिक या फिर टच करें।


फार्म भरने से पहले आपके लिए एक जरूरी सलाह है। नोटिफिकेशन को अच्छी तरह से पढ़ने के बाद ही फार्म भरे। फीस का भुगतान जल्द से जल्द कर आवेदन को कंपलीट करें। अगर आप समीक्षा अधिकारी परीक्षा की तैयारी की रणनीति जानना चाहते हैं तो हमारी वेबसाइट www.bookmynotes.com से मदद ले सकते हैं। हम अब से लगातार समीक्षा अधिकारी परीक्षा 2018 की तैयारी के लिए टिप्स, रणनीति और नोट्स उपलब्ध करवाएंगे।

समीक्षा अधिकारी का विज्ञापन हिन्दी में देखने के लिए यहां पर CLICK करें

दोस्तों इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि गांव के उन छात्रों तक ये खबर पहुंच जाए जो टैलेंटेड तो हैं लेकिन सही खबर नहीं मिलने की वजह से सरकारी नौकरी के लिए अप्लाई नहीं कर पाते।

समीक्षा अधिकारी-2018 में अप्लाई करने के लिए यहां पर CLICK करें



Tuesday, 2 January 2018

GST पर IIM प्रोफेसर के ये Tips निबंध में जरूर डालिए, मिलेंगे अच्छे अंक

हाल फिलहाल में होनेवाली परीक्षाओं में GST से जुड़े प्रश्न आने तय हैं। अगर आप IAS, PSC, SSC परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं और मेंस की तैयारी या फिर देने जा रहे हैं तो आप GST से जुड़ा एक टॉपिक तय मानिए। नीचे हम GST से छोटो कारोबारियों को सामने आनेवाली समस्याओं और उसके उपाय बता रहे हैं। ये बिन्दु दैनिक जागरण अखबार में IIM के पूर्व प्रोफेसर और वरिष्ठ अर्थशास्त्री भरत झुनझुनवाला ने एक लेख में पेश किया है।

NOTE:-दोस्तों अगर आप तैयारी से जु़ड़े टिप्स लगातार चाहते हैं तो स्क्रीन के राइट साइड पर नीचे की ओर बने बेल आईकॉन को क्लिक  करें और  Allow कर दें। इससे हम जब भी कोई आर्टिकल पोस्ट करेंगे आपको फौरन सूचना मिलेगी।


शोध सौजन्य-दैनिक जागरण अख़बार

GST से छोटे कारोबारियों के सामने आनेवाली समस्याएं:-

  • एक आकलन के अनुसार GST से छोटे कारोबारियों के कारोबार में करीब 40% की बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। विशेषज्ञ भरत झुनझुनवाला का आकलन है कि ये गिरावट जीएसटी ढांचे के कारण है। 
  • जीएसटी लागू होने से हर व्यापारी को अपना माल पूरे देश में बेचने की छूट मिल गई है। यह व्यवस्था बड़े उद्योगों के लिए फायदेमंद है जबकि छोटो उद्योगो के लिए नुकसानदेह। कारण ये है कि अंतरराज्यीय व्यापार करने की क्षमता बड़े उद्योगों की ज्यादा होती है। उनके कोरोबार का विस्तार ज्यादा है। 
  • बड़े कारोबारियों के मुकाबले छोटे कारोबारी अंतरराज्यीय व्यापार कम करते हैं। बड़े व्यापारियों को मिली GST की सहूलियतें छोटे व्यापारियों के लिये अभिशाप बन गई है। जैसे नागपुर में बने सामान अब गुवाहाटी में आसानी से पहुंच रहे हैं और वहां के स्थानीय कारोबारियों का बिजनेस चौपट हो रहा है।   
  • GST का छोटे उद्योगों पर दूसरा असर रिटर्न भरने का बोझ है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एक बयान में कहा है कि GST के तहत पंजीकृत 35 प्रतिशत लोग टैक्स अदा नहीं कर रहे हैं। 
  • बड़े व्यापारियों को जीएसटी से कोई समस्या नहीं है। क्योंकि उनके दफ्तर में चार्टर्ड अकाउंटेंट और कंप्यूटर ऑपरेटर पहले से ही मौजूद थे। छोटे व्यापारियों के लिए यह अतिरिक्त बोझ बन गया है। 
  • छोटे व्यापारियों की तीसरी परेशानी है कि खरीद पर अदा किए गए जीएसटी का उन्हें रिफंड नहीं मिलता। मसलन, अगर किसी दुकानदार ने कागज खरीदा और GST अदा किया। बड़े दुकानदार ने कागज बेचा तो उसके खरीददार ने इस रकम का सेटफ (Refund) ले लिया। छोटे दुकानदार ने कंपोजीशन स्कीम में कागज बेचा तो उसके खरीददार को GST सेटफ नहीं मिलेगा। 
  • इन तीन ढांचागत कारणों से जीएसटी छोटे व्यापरियों के लिए कष्टकारी हो गया है। छोटे व्यापरियों के दबाव में बाजार में मांग कम हो गई है और पूरी अर्थव्यवस्था ढीली पड़ रही है और जीएसटी का कलेक्शन गिरता जा रहा है।  

GST से छोटे कारोबारियों के सामने आनेवाली समस्याओं का उपाय:-

  • कुछ उत्पादों को छोटे उद्योगों के लिये फिर से संरक्षित कर दिया जाए जैसा कि पहले था। इससे छोटे उद्योग को फायदा होगा।  
  • GST में रजिष्ट्रेशन के प्रोत्साहन स्वरूप हर व्यापारी को 500 रुपये प्रति माह का अनुदान दिया जाए। इस रकम से छोटे व्यापारी पंजीकरण के कागजी बोझ को वहन कर लेंगे। 
  • कंपोजीशन स्कीम के छोटे व्यापारियों को भी खरीद पर अदा किए गए जीएसटी को पास ऑन करने की छूट दी जाए। तब ये बड़े व्यापारियों को टक्कर दे सकेंगे। 
  • IIM के पूर्व प्रोफेसर भरत झुनझुनवाला का मानना है कि प्रस्तावित ई-वे बिल इन परेशानियों को बढ़ा सकता है। वो एक उदाहरण से इसे समझाते हैं। 
  • उनके एक दोस्त ने नवजात शिशु को डॉक्टरों ने एंटीबायोटिक दवा दी। उसकी हालत नहीं सुधरी तो और बड़ी मात्र में एंटीबायोटिक दवा दी जिससे हालत सुधरने के बजाय और ज्यादा ही बिगड़ गई। इसी तरह वित्त मंत्री ने पहले अर्थव्यवस्था को GST की दवा दी। अर्थव्यवस्था नहीं सुधरी तो ई-वे बिल की दवा देना चाह रहे हैं। संभव है कि अर्थव्यवस्था और डिप्रेशन में चली जाए। 

Thursday, 28 December 2017

Clone क्या है? क्या आप क्लोनिंग के बारे में जानते हैं? पूरा कांसेप्ट करें क्लियर

क्लोन (Clone in Hindi)
यदि दो अलग-अलग कोशिकाओं की जींस रचना परस्पर बिल्कुल समान हो तो इनके गुणों में भी समानता होती है. अतः ये कोशिकाएं आपस में क्लोन कहलाती हैं. इसी प्रकार दो अलग-अलग जीवों की जींस रचना समान होने पर इन्हें भी परस्पर क्लोन कहा जाता है. क्लोन विकसित करने की तकनीक क्लोनिंग कहलाती है.
Question:-

किसी पौधे का क्लोन विकसित करने के लिए उसी पौधे के किस भाग से कोशिका लेनी पड़ेगा-
(A)- भ्रूण (Embryo)
(B)- भ्रूण पोष (endosperm)
(C)- बीज
(D) इनमें से कोई नहीं.

ANSWER-(D)

स्पष्टीकरणः-
Ø  उपरोक्त प्रश्न में सभी अवस्थायें युग्मक कोशिकाओं के निषेचन के फलस्वरूप उत्पन्न होती हैं. अतः क्रासिंग ओवर के कारण उनके जींस में बदलाव आ जाता है. अतः किसी पौधे का क्लोन विकसित करने के लिए उसके कायिक भागों या सोमेटिक भाग जैसे-जड़, तना, इत्यादि से कोशिका लेनी पड़ेगी.
Ø  डॉली भेड़ के क्लोनिंग प्रकरण में (डॉली नाम जर्मन गायिका का है) वैज्ञानिक द्वारा इसके माता भेड़ से थन कोशिका (कायिक या Somatic) तथा दूसरी अंडाणु कोशिका (युग्मक) ली गई, परन्तु अंडाणु कोशिका के जींस को थन कोशिका के जींस से प्रतिस्थापित कर दिया गया.

Question:-
निम्नलिखित में किसे परस्पर क्लोन माना जा सकता हैः-
(A) भातृ जुड़वा
(B) समरूप जुड़वा
(C) स्यामीज जुड़वा
(D) इनमें से कोई नहीं.

ANSWER-(D)
स्पष्टीकरणः-
Ø  भातृ-जुड़वा एक ही समय पर निर्मित दो अलग-अलग जाइगोट से विकसित होते हैं, अतः इनके जींस में भिन्नता आ जाती है.
Ø  समरूप जुड़वा एक ही जाइगोट के विभाजन से व्युत्पन्न होते हैं, अतः इनके जींस में समानता होती है.
Ø  समरूप जुड़वा के अंतर्गत परस्पर जुड़े हुए संताने स्यामीज जुड़वा कहलाती है.
Ø  मनुष्य में प्राकृतिक निषेचन फैलिपियोन नलिका के समीपस्थ भागों में होता है. इसी भाग में प्रारंभिक भ्रूणीय विकास शुरू हो जाता है, जबकि अंतिम भ्रूणीय विकास गर्भाशय में होता है, जबकि परखनखी शिशु या Test Tube Baby में निषेचन शरीर के बाहर (प्रायः परखनली में) होता है, जबकि भ्रूणीय विकास शरीर के अंदर होता है.

v  आजकल कृत्रिम निषेचन की अनेक विधियां बनायी जाती है. जैसे-
1-G.I.F.T (Gamete Intra Fallopian Tramps)
इसमें युग्मक कोशिकाओं को फैलोपियन नलिका में स्थान्तरित किया जाता है.
2-Z.I.F.T (Zaigot Intra Fallopian Transer)
इसमें बाहर से निर्मित जाइगोट, सीधे फैलोपियन नलिका में स्थान्तरित किया जाता है.
3-I.C.S.I (Intra Cytoplasmic Sperm Injection)-
इसमें शुक्राणु कोशिका सीरिन्ज में लेकर अंडाणु कोशिका में कोषा द्रव्य में सीधे अंतरविष्ट करा दिया जाता है.

Question:-
किसी भी प्राणी में माइट्रोकांड्रिया के जिन्स वित्पुन्न होते हैः-
(A) पिता से
(B) माता से
(C) दोनों से
(D) किसी से नहीं.

ANSWER-(D)

स्पष्टीकरणः-
चूंकि निषेचन प्रक्रिया में अंडाणु कोशिका पूर्णरूपेण भाग लेती है, जबकि शुक्राणु कोशिका का केवल केंद्रक युक्त सिर भाग ही निषेचन में सफल हो पाता है. अतः माइट्रोकांड्रिया शुक्राणु के मध्य भाग में स्थित होने के कारण यह निषेचन से बाहर रह जाती है.

स्टेम सेल (Stem Cell)
मनुष्य में शुक्राणु तथा अंडाणु के निषेचन से एक कोशिकीय जाइगोट की रचना बनती है जो भ्रूणीय विकास (विदलन प्रक्रिया) के माध्यम से क्रमशः मारुला, ब्लास्टुला (ब्लास्टोसिस्ट) तथा गैस्टुला की अवस्थाएं विकसित करता है. भ्रूण के प्रारंभिक दशा में इसकी कुछ मौलिक कोशिकाएं भिन्न अंगों को विकसित करने के लिए विशिष्टिकृत हो जाती हैं जो स्टेम कोशिकाएं कहलाती हैं. मनुष्य में ये कोशिकाएं ब्लास्टोसिस अवस्था से प्राप्त हो सकती हैं. इन स्टेम कोशिकाओं में विभाजित एवं पुनरूद्धभवन के द्वारा ये प्रयोगशाला में विशिष्ट अंगों को विकसित करने में समर्थ हो जाती हैं. स्टेम कोशिकाओं की सहायता से कैंसरग्रस्त अंगों का जैव रासायनिक नियंत्रणएटोप्टॉसिसकहलाता है.

Wednesday, 27 December 2017

DELHI VISION IAS कोचिंग के NOTES की नई किस्त आ गई है, Download करें

पिछले रिकॉर्ड को देखते हुए Vision IAS के Notes को प्रमाणिक माना जा सकता है। आप नीचे दिए गए लिंक के जरिए विजन आईएएस कोचिंग के नोट्स हिन्दी और अंग्रेजी दोनों माध्यम में डाउनलोड कर सकते हैं। आपकी सहुलियत के लिए हिन्दी और अंग्रेजी के नोट्स के लिए अलग-अलग टैब दिए गये हैं। आपको जो भी नोट्स चाहिए उस लिंक पर क्लिक या फिर टच करके डाउनलोड कर सकते हैं।

नोट्स डाउनलोड करने से पहले हमारी एक सलाह जरुर अमल में लाएं। आप इस नोट्स को सिर्फ एक सप्लिमेंट की तरह ही प्रयोग करें। इस पर पूरी तरह से निर्भर ना हो जाएं। हम पहले भी बता चुके हैं कि किसी भी परीक्षा में कामयाबी के लिए अपने नोट्स पर ही भरोसा करें। अगर आप जानना चाहते हैं कि सफल होने के लिए नोट्स कैसे बनाए तो आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर सकते हैं।
आप से ये छोटी से गुजारिश है कि विजन आईएएस नोट्स को डाउनलोड करने से पहले इस लेख को जरूर पढ़ लें। लेख पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें। (मोबाइल पर अगर आर्टिकिल पढ़ रहे हैं तो टच करें)


IAS और PCS में सलेक्शन के लिए Notes कैसे बनाएं? प्रैक्टिकल Tips

विज़न आईएएस कोचिंग के नोट्स डाउनलोड करने के लिए ऩीचे दिए लिंक पर क्लिक या टच करें।

CURRENT AFFAIRS MATERIAL-2017 (ENGLISH/HINDI)

Thursday, 21 December 2017

IAS और PCS में सलेक्शन के लिए Notes कैसे बनाएं? प्रैक्टिकल उपाय

नोट्स सफलता का पहला मंत्र है. अगर आपके नोट्स स्तरहीन हैं तो सफलता के चांसेज बहुत कम हो जाते हैं. लेकिन अगर आपके नोट्स स्तरीय हैं तो सफलता के चांसेज बढ़ जाते हैं. तो सवाल ये है कि एक स्तरीय नोट्स कैसे बनाएं? एक अच्छे नोट्स की क्या-क्या खासियत होनी चाहिए? आप नोट्स में ऐसा क्या लिखें जो आपको सफलता की ओर ले चले? आज हम आपको बिन्दुवार कुछ ऐसी गुढ़ बाते बताएंगे जिसे अपनाकर आप अपने नोट्स को स्तरीय बना सकते हैं. लेकिन उससे पहले नोट्स को लेकर कुछ गलत धारणाओं को समझना जरूरी है. तो आइए पहले समझते हैं नोट्स क्या नहीं है?
1-किताबों के अहम बिन्दुओं को सिर्फ कॉपी में नोट करना नोट्स नहीं है.
2-पांच-छह लोगों के नोट्स लेकर उसमें से अहम बातों को छांटना नोट्स नहीं है.
3-पूरी किताब को कॉपी में लिख लेना नोट्स नहीं है.
4-हर बिन्दुओं पर पांच-छह किताबों से प्वाइंट निकालकर लिखना नोट्स नहीं है.
तो सवाल ये है कि नोट्स क्या है? चलिए आपको बताते हैं कि नोट्स क्या है? नोट्स को कैसे बनाना चाहिए? नोट्स बनाते समय किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?
दोस्तों किसी भी विषय पर नोट्स बनाने से पहले आपको ये तय करना होगा कि आप किस परीक्षा के लिए नोट्स बना रहे हैं. हम यहां पर आईएएस परीक्षा के लिए नोट्स बनाने की चर्चा कर रहे हैं. तो हम फोकस उसी पर करेंगे. आप बाकि परीक्षाओं के लिए भी इसी मैथेड से नोट्स बना सकते हैं.

मान लीजिए आप आधुनिक इतिहास विषय के लिए नोट्स बना रहे हैं। तो सबसे पहले आपके पास तीन चीज होनी जरूरी है. 
1-आधुनिक इतिहास का सलेबेस.
2-पिछले 10 साल का अनसॉल्व पेपर.
3-इतिहास की एक बेसिक किताब. ये किताब NCERT भी हो सकती है.

अगर आपको स्तरीय नोट्स बनाना है तो सबसे पहले आप आधुनिक इतिहास के सलेबस को कम से कम 2-3 बार पढ़ डालिए. फिर इसके बाद अनसॉल्व पेपर को लीजिए. कोशिश कीजिए अगर ऐसा अनसॉल्व पेपर मिल जाए जिसमें शीर्षक वाइज सवालों को छांटा गया है तो बहुत अच्छा होगा. इसके लिए यूथ प्रकाशन, घटनाचक्र प्रकाशन, अरिहंत प्रकाश से लेकर कई प्रकाशनों का सॉल्व आता है आप उसे भी ले सकते हैं.

इसके बाद आप सलेबस के हिसाब से देखिए कि किस टॉपिक से कितने सवाल पूछे जा रहे हैं? किस तरह के सवाल आ रहे हैं? सवालों की प्रकृति कैसे साल-दर-साल बदल रही है? इसे समझने के बाद आप बेसिक किताब उठाइए और उसे पहली बार में सरसरी निगाह से पढ़ डालिए. चाहे कुछ समझ में आये चाहे ना आए.

इसके बाद आप एक बार फिर सलेबेस देखिए और शीर्षक वाइज सवालों को पढ़िए. आपको समझ में आने लगेगा कि जो सवाल पूछे जा रहे हैं वो किताब में कहां पर हैं. अब फिर से बेसिक बुक पर जाइए और उसका गहन अध्ययन शुरू कीजिए. साथ में मार्कर या फिर हाईलाइट जरूर रखें. जैसे ही आपको लगे कि इस जगह से परीक्षा में सवाल आ रहे हैं उसे मार्क कर लें. इस एक्सर्साइज में थोड़ा वक्त लगेगा. लगने दें. क्योंकि इससे आपका किसी भी विषय पर बेसिक ज्ञान मजबूत होगा. ये आपके मजबूत बुनियाद की पहली ईंट है.

किताब पढ़ने के बाद आप सलेबेस और अनसॉल्व के सवालों को फिर से देखें. आपको अब समझ में आ जाएगा कि सलेबस में बहुत से ऐसे टॉपिक हैं जिससे परीक्षा में बहुत कम सवाल पूछे जाते हैं. और कुछ टॉपिक ऐसे होते हैं जिससे सबसे ज्यादा. अब आपको इन टॉपिको को अलग-अलग छांटकर लिखना है.

अब आप फिर से अपने बेसिक बुक पर जाइए और सवाल के हिसाब से देखिए किस टॉपिक से कितने सवाल आए हैं. जिस टॉपिक से ज्यादा सवाल आएं हैं उसे पहले तैयार कीजिए. सवाल के जवाब ही आपके नोट्स हैं. अब आपको करना ये है कि किसी भी सवाल को आप अलग-अलग तरीके से खुद बनाइए और उसका जवाब बेसिक किताब में ढूढ़िये. जैसे ही जवाब मिले उसे कॉपी में लिख लें. हो सके तो नोट्स में सवाल को भी लिखते चलें. क्योंकि इस टॉपिक से सवाल आ रहे हैं मतलब कमीशन चाहता है कि आपकी इस टॉपिक पर अच्छी पकड़ होनी चाहिए. और इस टॉपिक से परीक्षा में सवाल आने के चांसेज भी ज्यादा हैं. जो टॉपिक कम महत्वपूर्ण लग रहे हैं उस पर ज्यादा वक्त ना लगाएं. क्योंकि अगर इस टॉपिक से सवाल आएगा तो सिर्फ आप नहीं बाकि प्रतियोगी छात्रों को भी दिक्कत होगी. सफल वही होता है जो कॉमन सवालों को गलत नहीं करता है. विशेष के चक्कर में रहेंगे तो कभी भी सफल नहीं हो पाएंगे.

अब आपको समझ में आएगा कि बहुत से ऐसे सवाल हैं जिसका आपके बेसिक किताब में जवाब नहीं हैं. तब आप दूसरी किताब की मदद लें. ध्यान दें मदद स्तरीय किताब से लें ना कि बाजार में मिलनेवाली किसी गाइड से. और इस बात पर जरूर ध्यान दें कि आपको दूसरी किताब पूरी नहीं पढ़नी हैं. सिर्फ उतना ही पढ़ना है और उसे अपने नोट्स में शामिल करना है जिसका जवाब आपको अपनी बेसिक किताब में नहीं मिला है.

एक बात हमेशा ध्यान में रखें आपके नोट्स में हर टॉपिक के साथ कम से कम 5 पन्ने प्लेन होने चाहिए. क्योंकि जैसे-जैसे आपके पढ़ाई का स्तर बढ़ेगा आपको इस टॉपिक से जुड़े नए-नए फैक्ट मिलेंगे. जैसे ही कोई नया फैक्ट मिले उसे फौरन अपने नोट्स में जोड़ लीजिए. इसलिए सलाह यही दी जाती है कि नोट्स हमेशा A-4 साइज की प्लेन शीट पर बनाएं. क्योंकि जैसे-जैसे कोई फैक्ट आपको मिले आप जरूरत के हिसाब से शीट बढ़ा सकें. अगर आपको इस टॉपिक से जुडा कोई ड्राइग्राम या फिर फीगर मिलता है तो आप उसे सीधा फोटो कॉपी कराकर नोट्स में एड कर लीजिए.

इस छोटी-सी एक्सरसाइज से आप एक स्तरीय नोट्स बना सकते हैं. फिर आपको बेवजह की 10 किताबें पढ़ने की जरूरत नहीं होगी. एक बार मेहनत करके आप एक ऐसा नोट्स तैयार कर लेंगे जो हमेशा आपके काम आएगा. लेकिन हां, एक बात का ध्यान रखें बीच-बीच में आपको अपनी बेसिक किताब को पढ़ते रहना चाहिए. क्योंकि ये अनुभव रहा है कि आप एक ही किताब को जितनी बार पढ़ेंगे आपको नई चीज मिलेगी. आपका कांसेप्ट क्लियर होगा. फालतू की और ज्यादा से ज्यादा किताबों को पढ़ने से बचें। क्योंकि मोर स्टडी, मोर कंफ्यूजन वाली कहावत तो आपको पता ही होगी.

अगर आपको हमारी ये टिप्स पसंद आई तो इसे ज्यादा से ज्यादा सोशल मीडिया पर शेयर करें. क्योंकि बहुत-से ऐसे प्रतियोगी छात्र और छात्राएं हैं जो इस बात को लेकर परेशान रहते हैं कि वो नोट्स कैसे बनाएं?  

Tuesday, 19 December 2017

CSAT के बाद हिन्दी मीडियम के छात्र क्यों नहीं बन पा रहे IAS? विश्लेषण

    UPSC की सिविल सर्विसेज परीक्षा में जब से CSAT लागू हुआ है हिन्दी मीडियम के छात्रों के कामयाबी का स्तर लगातार गिरता जा रहा है। ये सोचने वाली बात है कि ऐसा क्यों है? आखिर क्यों CSAT से पहले हिन्दी मीडियम के छात्रा ज्यादा सेलेक्ट होते थे और सी-सैट के बाद से उनकी कामयाबी का ग्राफ लगातार गिरता ही जा रहा है। आइए इसके पीछे के कुछ कारणों का बिन्दुवार विश्लेषण करते हैं।

    1-प्रारंभिक परीक्षा से विषय का हटना:-

    सी-सैट से पहले प्रारंभिक परीक्षा में एक वैकल्पिक विषय और सामान्य अध्ययन का पेपर होता था। हिन्दी मीडियम के छात्र वैकल्पिक विषय में अच्छा नंबर पा जाते थे और प्रारंभिक परीक्षा की मेरिट में स्थान बना लेते थे। हालाकि वैकल्पिक विषय को लेकर स्केलिंग पद्धति हमेशा एक अबूझ पहेली थी, जिसकी वजह से हिन्दी मीडियम के छात्र भी विषय को हटाने की मांग करते थे। लेकिन सी-सैट लागू होने के बाद हिन्दी मीडियम के छात्रों को ये दांव उल्टा पड़ गया।   

    2-मुख्य परीक्षा से दो विषयों का हटना-

    जैसा कि आपको पता होगा कि जब से सी-सैट लागू हुआ तभी से मुख्य परीक्षा से दो विषयों को हटाकर एक विषय कर दिया गया है। पहले दो विषयों में हिन्दी मीडियम के छात्र अच्छा नंबर खींच लेते थे। उन्हें स्केलिंग का भी फायदा मिल जाता था। जिससे उन्हें इंटरव्यू देने का मौका मिल जाता था। विषय होने से हिन्दी मीडियम के छात्रों को एक फायदा ये भी था उन्हें पेपर की भाषा अासानी से समझ में आज जाती थी क्योंकि पेपर की भाषा उतनी कठिन नहीं थी जितनी आज के सामान्य अध्ययन के पेपरों की होती है। लिहाजा पेपर को आसानी से समझकर उसका उत्तर लिखा जा सकता था।


    3-हिन्दी मीडियम में सामान्य अध्ययन की अच्छी कोचिगों का आभाव-

    दिल्ली की मुखर्जीनगर को IAS के हिन्दी मीडियम छात्रों का मक्का माना जाता रहा है। लेकिन अब ऐसा नहीं है। मुखर्जीनगर हिन्दी मीडियम के छात्रों का गढ़ भी इसलिए बन पाया था क्योंकि यहां पर विषय के अच्छे टीचर थे। विषय के अच्छे टीचरों की वजह से ही मुखर्जीनगर में छात्रों का जमावड़ा हुआ। लेकिन सी-सैट के बाद ये टीचर खुद को नए सैलेबस के अनुसार ढाल नहीं पाए। आप माने या माने लेकिन ये सच है कि सामन्य अध्ययन के सारे पेपरों के लिए जितनी अच्छी किताबें और टीचर अंग्रेजी माध्यम में उपलब्ध है उतने हिन्दी में नहीं है। और दुर्भाग्य ये है कि मुखर्जीनगर में जो टीचर हैं वो सब विषय के विशेषज्ञ रहे हैं ना कि सामान्य अध्यन के। इस वजह से सी-सैट लागू होने के बाद ये सारे विषय विशेषज्ञ पैदल हो गए। अब ये टीचर सिर्फ छात्रों को ठगकर पैसा कमा रहे हैं। असलियत ये है कि इन्हें अगर IAS के सामान्य अध्ययन का कोई भी पेपर सॉल्व करने के लिए दे दीजिए इनके हाथ-पांव फूल जाते हैं।

    हिन्दी मीडियम के छात्रों की कठिनाइयों पर हम आगे भी बात करेंगे। उसका निदान भी बताएंगे। फिलहाल आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके आप 2016 में आईएएस में सलेक्ट अनीता यादव की कॉपी देख सकते हैं। अनीता ने कॉपी Vision ias कोचिंग में टेस्ट सीरिज लिखने दौरान लिखी थी। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं IAS की मुख्य परीक्षा में हिन्दी मीडियम के छात्रों की कॉपी किस लेवल की होनी चाहिए। 


    दोस्तों अगर आपको हमरा ये विश्लेषण पसंद आया हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा सोशल मीडिया पर शेयर करने के लिए फेसबुक शेयर का बटन दबाएं। ताकि हिन्दी मीडियम के छात्रों तक ये मैसेज जाए और उनके सामने आने वाली दिक्कतों को दूर करने के लिए एक व्यापक रणनीति बनाई जाए।


    ANITA YADAV RANK-350, 2016 (HINDI MEDIUM)


Friday, 15 December 2017

24 जून 2018 को होगी UP PCS की प्रारंभिक परीक्षा, शुरू कर दें तैयारी

उत्तर प्रदेश PCS परीक्षा की तैयारी करनेवाले स्टूडेंट के लिए गुड न्यूज है। आयोग ने सत्र-2018 के लिए पीसीएस की प्रारंभिक परीक्षा की तारीखों का ऐलान कर दिया है। पीसीएस की प्रारंभिक परीक्षा 24 जून 2018 को होगी। इसके साथ ही आयोग ने पीसीएस 2017 की मुख्य परीक्षा की तारीखों की घोषणा कर दी है। मुख्य परीक्षाएं 17 मार्च 2018 से होगीं।

इस बार आयोग ने परीक्षा का कैलेंडर काफी देर से जारी किया। अमूमन हर साल कैलेंडर सितंबर-अक्टूबर तक आ जाता है। हालाकि देरी का संबंध आयोग में हुई धांधली की सीबीआई जांच की घोषणा से भी हो सकता है। फिलहाल आयोग ने जो कैलेंडर जारी किया है उसे आप नीचे देख सकते हैं।
           
                       
1- अपर निजी सचिव (कंप्यूटर ज्ञान) परीक्षा-2013 की तारीख 11 फरवरी 2018 है
2-प्रवक्ता राजकीय इंटर कॉलेज (स्क्रीनिंग) परीक्षा-2017 की तारीख 25 फरवरी 2018 है
3-सहायक सांख्यिकीय अधिकारी (स्क्रीनिंग) परीक्षा-2014 (वाणिज्य कर विभाग, विज्ञापन संख्या-2/2014-15, विभाग संख्या एस-5/4 की परीक्षा 17 मार्च 2018 को होगी।
4-सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा (मुख्य) परीक्षा-2017 की तारीख 17 मार्च 2018 है।
5-समीक्षा अधिकारी/सहायक समीक्षा अधिकारी आदि (प्रारंभिक) परीक्षा- 2017 की परीक्षा 08 अप्रैल 2018 को होगी।
6-सम्भागीय निरीक्षक परीक्षा-2018 की तारीख 15 अप्रैल 2018 है।
7-सहायक अध्यापक (प्रशिक्षित स्नातक श्रेणी) पुरूष संवर्ग एवं सहायक अध्यापिका (प्रशिक्षित स्नातक श्रेणी) महिला संवर्ग परीक्षा 2018 की तारीख 6 मई 2018 रखी गई है।
8-उत्तर प्रदेश न्यायिक सेवा सिविल जज (जू.डि) प्रारंभिक परीक्षा, 2018 (15 जनवरी 2018 तक अधियाचन प्राप्त होने की स्थिति पर) की तारीख 20 मई 2018 है।
9-सहायतक वन संरक्षक/वन क्षेत्राधिकारी (मुख्य) परीक्षा-2017 की तारीख 20 मई 2018 है।
10-अपर नीजि सचिव परीक्षा 20 2018 की तारीख 10 जून 2018 रखी गई है।
11-सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा-2018 की परीक्षा 24 जून 2018 रखी गई है।

GK से जुड़े अपडेट पाने के लिए Page Like करें

Match

Secure Website

AD

Featured post

अगर IAS बनना है तो ना करें ये 10 गलतियां?

1-बिना सोचे-विचारे तैयारी शुरु करना हर छात्र की तैयारी की अपना स्तर और क्षमता होती है। अगर आप सिर्फ दूसरों की नकल करके तैयारी की शुरुआत क...